Boxing

World Boxing Championship: फाइनल में पहुंची मैरी कॉम, किम को 5-0 से दी मात

No Comments

एमसी मैरीकॉम ने गुरुवार को विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में प्रवेश कर लिया है। 35 वर्षीय मैरी (48 किग्रा) सेमीफाइनल में उत्तर कोरिया की किम ह्यांग मी को एकतरफा मुकाबले में 5-0 से मात देकर खिताबी मुकाबले में पहुंचीं। यह उनका सातवां फाइनल है। अब छठे विश्व खिताब के लिए मैरी का सामना शनिवार को यूक्रेन की हाना ओखोता से होगा।

यह भी पढ़े: T-20: रोमांचक मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 4 रन से हराया

5 स्वर्ण पदक जीत चुकी हैं मैरीकॉम

अगर यह मणिपुरी मुक्केबाज स्वर्ण पदक जीत जाती हैं तो वह रिकॉर्ड छह पीले तमगे जीतने वाली दुनिया की पहली मुक्केबाज बन जाएंगी। उन्होंने अब तक पांच स्वर्ण और एक रजत पदक जीता है।

यह भी पढ़े: PKL 6: गुजरात फॉर्च्यून जायंट्स ने यू मुंबा को 39-35 से पछाड़ा

कैटी के नाम हैं समान रिकॉर्ड

मैरी ने 2001 में हुई पहली महिला बॉक्सिंग चैंपियनशिप में रजत जीता था। इसके बाद 2002, 2005, 2006, 2008, 2010 में स्वर्ण जीते। आयरलैंड की दिग्गज कैटी और मैरी के एक समान पांच-पांच स्वर्ण हैं।

अब अमेरिका में पदार्पण करेंगे भारतीय मुक्केबाज विजेंदर सिंह

No Comments

स्टार भारतीय मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने मशहूर प्रमोटर बॉब एरम की कंपनी टाप रैंक के साथ करार किया है। वह अगले साल अमेरिका में पदार्पण करेंगे। बीजिंग ओलंपिक 2008 के कांस्य पदक विजेता विजेंदर ने अभी तक अपने सभी पेशेवर मुकाबले भारत और इंग्लैंड में खेले हैं। वह 2019 की शुरुआत में टाप रैंक के लिए पदार्पण करेंगे।

इसे भी पढ़े: PKL 6: तमिल थलाइवाज ने तेलुगु टाइटंस को 27-23 से पछाड़ा

हरियाणवी मुक्केबाज का टॉप 10 रिकॉर्ड

2015 में पेशवर मुक्केबाजी में पदार्पण करने वाले हरियाणवी मुक्केबाज ने अब तक दस मुकाबले खेलें हैं और सभी जीते हैं। उनके भारतीय प्रमोटर आईओएस बाक्सिंग ने एक बयान में यह जानकारी दी।

इसे भी पढ़े: Samsung Galaxy A9 (2018) भारत में लॉन्च, इसमें हैं 5 कैमरें

टॉप रैंक विजेंदर के साथ किया करार

एरम ने कहा, ‘टॉप रैंक विजेंदर के साथ करार करके उत्साहित है। हम उसे अमेरिका में बड़ा स्टार बनाना चाहते हैं और भारत में प्रमुख टूर्नामेंटों में उसकी भागीदारी देखना चाहते हैं जहां वह पहले से ही सुपरस्टार है।’

विजेंदर ओलंपिक पदक के अलावा 2009 में विश्व चैंपियनशिप में भी पदक जीत चुके हैं। एशियाई खेलों (2010) में उन्होंने स्वर्ण पदक जीता था। पेशेवर मुक्केबाजी में पदार्पण के बाद उन्होंने डब्ल्यूबीओ एशिया पेसीफिक और ओरिएंटल सुपर मिडिलवेट खिताब जीते।

World Boxing Championship: सेमीफाइनल में पहुंची मैरी कॉम, सुनिश्चित किया पदक

No Comments

पांच बार की विश्व चैम्पियन मैरीकॉम ने 48 किग्रा प्रतिस्पर्धा में चीन की वू यू को 5-0 से हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया है। भारत की अनुभवी मुक्केबाज एम सी मैरीकॉम ने दिल्ली में जारी 10वीं AIBA विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के क्वार्टर फाइनल में जीत दर्ज कर इस टूर्नामेंट में अपने करियर का 7वां और इस साल भारत का पहला मेडल सुनिश्चित कर लिया है।

यह भी पढ़े: PKL 6: गुजरात फॉर्च्यून जायंट्स ने यूपी योद्धा को 37-32 से पछाड़ा

सुनिश्चित किया भारत का पहला पदक

गौरतलब है कि विश्व चैम्पियनशिप में मैरी कॉम के नाम 5 गोल्ड और 1 सिल्वर मेडल हैं। उन्होंने आखिरी बार 2010 में गोल्ड जीता था, जिसके साथ ही उन्होंने महान आयरिश बॉक्सर केटी टेलर के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली थी। इससे पहले, मैरी कॉम ने कजाकिस्तान की ऐजरिम कासेनायेवा को 5-0 से मात देकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया था।

अंतिम-8 में पहुंचें भारत के 8 मुक्केबाज

बता दें कि भारत के कुल आठ मुक्केबाज इस चैम्पियनशिप के अंतिम-8 में पहुंचने में सफल रहे हैं। इन तीनों में से पहले मैरी कॉम, मनीषा मौन, लवलिना बोरगोहेन और भाग्यबती कचारी, सीमा पूनिया ने क्वार्टर फाइनल का टिकट कटाया था।

आप जितने गरीब, उतने ही ज्यादा अच्छे मुक्केबाज: माइक टायसन

No Comments

अमेरिका के पूर्व हेवीवेट चैंपियन मुक्केबाज माइक टायसन ने कहा कि आप जितने गरीब, उतने ही ज्यादा अच्छे मुक्केबाज हैं। दरअसल, भारत दौरे पर पहली बार आए टाइसन मुंबई में शनिवार को आयोजित हो रहे एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे। वो 29 सितंबर को भारत में पहली मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स लीग-कुमिते-1 लीग को लॉन्च करने के लिए यहां आए हैं।

इसे भी पढ़े: Asia Cup 2018: बांग्लादेश को 3 विकेट से हराकर 7वीं बार चैंपियन बना भारत

झुग्गियों से आने वाले मुक्केबाज सफल

इससे पहले, मुंबई एयरपोर्ट पर पहुंचते ही उनका जोरदार स्वागत किया गया। इसके बाद कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे 52 वर्षीय टायसन ने कहा कि, मुझे लगता है कि आप जितने गरीब हैं, उतने ही ज्यादा अच्छे मुक्केबाज हैं। झुग्गियों से आने वाले सभी मुक्केबाज सफल होते हैं। मौजूदा समय के सभी शीर्ष मुक्केबाज झुग्गियों से आते हैं।

पहली बार भारत आए माइक टायसन

टायसन ने कहा, ‘मैं यहां आकर बहुत रोमांचित हूं। मैं पहली बार भारत आया हूं। मैंने इसकी कभी कल्पना नहीं की थी। मैं यहां फाइट (कुमीटे-1 लीग) की लांचिंग पर आया हूं। मैं सर्वश्रेष्ठ टीम को जीतने के लिए शुभकामनाएं देता हूं। मैं एमएमए का बहुत बड़ा फैन हूं। मैं अक्सर यूएफसी देखने जाता रहता हूं।